संदेश

सितंबर 21, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

यात्रा वृतांत - टिहरी गढ़वाल की वादियों में, पहला सफर

चित्र
  ध्वल हिमालय के दूरदर्शन एवं प्रत्यक्ष संवाद गढ़वाल हिमालय की ध्वल पर्वत श्रृंखलाएं नई टिहरी के बारे में सुना बहुत था, मुख्यरुप से टिहरी डेम के संदर्भ में। दूसरा पास ही बन रहे कोटेश्वर बाँध के बारे में और वहाँ के आइएएस स्वामीजी, उनके आश्रम व समाज सेवा की गतिविधियों के बारे में भी सुना था अपने छात्र अवनीश से और एक बार शांतिकुंज में युवा स्वामीजी से मुलाकात भी हो चुकी थी नई कैंटीन के सामने खड़े-खड़े। सो इस बार की शैक्षणिक यात्रा के बारे में उत्साह, जिज्ञासा और रोमाँच के भाव तीव्र थे। मालूम हो कि विभाग के मीडिया लेखन पाठ्यक्रम में यात्रा वृतांत के अंतर्गत हर बैच को ऐसी यात्रा का अवसर मिलता है, जिसका प्रायः सबको इंतजार रहता है।      वर्ष 2011 के सितम्बर माह का अंतिम सप्ताह, प्रातः सात बजे देवसंस्कृति विवि से उत्तराखँड परिवहन की बस में निकल पड़ना, उत्साह और उत्सुक्तता से भरी छात्र-छात्राओँ एवं शिक्षकों की टोली, बैठते ही गीतों की लड़ियों का जुड़ना, जल्द ही ऋषिकेश के पार गढ़वाल हिमालय के शिखरों का आरोहण, नरेंद्रनगर के आगे अब तक के ज्ञात मार्ग से आगे बस का प्रवेश – एक नए पहाड़ी क्षेत्र म