संदेश

सकारात्मक परिवर्तन लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

दुनियां को हिलाने जो मैं चला

चित्र
सार्थक परिवर्तन का सच   जवानी के जोश में होश कहाँ रहता है। सो इस जोश में दुनियाँ को बदलने , समाज में क्राँति-महाक्राँति की बातें बहुत भाती हैं। और वह जवानी भी क्या जो एक बार ऐसी धुन में न थिरकी हो , ऐसी रौ में न बही हो। हम भी इसके अपवाद नहीं रहे। स्वामी विवेकानंद के शिकागो धर्मसभा के भाषण का संस्मरण क्या पढ़ा कि , अंदर बिजली कौंध गई , लगा कि हम भी कुछ ऐसी ही क्राँति कर देंगे। दुनियाँ को हिला कर रख देंगे। आदर्शवाद तो जेहन में नैसर्ग से ही कूट कर भरा हुआ था , दुनियाँ को बेहतर देखने का भाव भी प्रबल था। लेकिन अपने यथार्थ से अधिक परिचति नहीं थे। सो चल पड़े जग को हिलाने , दुनियाँ को बदलने। घर परिवार , नौकरी छोड़ भर्ती हो गए युग परिवर्तन की सृजन सेना में। धीरे-2 गुरुजनों , जीवन के मर्मज्ञ सत्पुरुषों के सतसंग , स्वाध्याय व आत्म मंथन के साथ स्पष्ट हो चला की क्रांति , परिवर्तन , दुनियाँ को हिलाने का मतलब क्या है। इसके साथ दुनियाँ को हिलाने की बजाए खुद को हिलाने वाले अनगिन अनुभवों से भी रुबरु होते रहे।      समझ में आया कि , दुनियाँ को हिलाने से पहले खुद को हिलाना पड़ता है ,