संदेश

नवंबर 30, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

यात्रा वृतांत - हमारी कोलकाता यात्रा-भाग2 (समाप्न किस्त)

चित्र
भावों के सागर में एक डुबकी कांफ्रेंस में भागी दारी - सुबह बौद्धिक संगोष्ठी ( conference ) थी। हुगली (गंगाजी) के तट पर बसे जैन कॉलेज, काशीपुर के सुरम्य परिसर में पहुंचे। यहां कुछ पुराने अकादमिक मित्रों से मिलने का मौका मिला। और सबसे ऊपर मीडिया शिक्षा जगत के पितामह प्रोफेसर जेएस यादव से मिलने का सौभाग्य मिला। 1970 के दशक से मीडिया शिक्षा क्षेत्र में सक्रिय यादव सर ने ही 80 के दशक में सबसे पहले संचार की भारतीय अवधारणा, साधारणीकरण पर प्रकाश डाला था। दिल्ली स्थित आईआईएमसी के संस्थापक सदस्यों में एक, यादव सर के अति सरल-सौम्य, शांत-मधुर एवं गरिमामय व्यक्तित्व से मिलकर एक सह्दयता का भाव जागा और साधारणीकरण की अवधारणा स्पष्ट हो गई। दो दिन की क्रांफ्रेस के बीच इनके संवाद के कई मौके मिले और संचार शोध के संदर्भ में एक नयी दृष्टि का विकास हुआ। इनके साथ ही दूसरे सुपर सीनियर प्रोफेसर केवी नागराज के मस्त मौला, विद्वत संचार का भी हम सबको लाभ मिला। उच्च शिक्षा के क्षेत्र में शिक्षा, शोध एवं शिक्षण की वर्तमान दुर्दशा पर इनके विचारोतेजक संबोधन गंभीर आत्म-समीक्षा और विचार के लिए