सोमवार, 29 जून 2020

मेरी पौलेंड यात्रा – 8, अंतिम दिनों की कुछ दिलचस्प यादें

अकादमिक एक्सचेंज, भ्रमण एवं शाकाहारी जायका

अगले दो दिन सक्रिय अकादमिक एक्सचेंज के रहे। आज पत्रकारिता विभाग के अध्यक्ष एवं प्रो. डॉ. सजना से मुलाकात होती है। यहाँ के बच्चों में थोडा हिचक दिखी, लेकिन थोडी ही देर में भाषा की दिवाल ढह जाती है और खुलकर संवाद होता है।

पत्रकारिता शिक्षा की स्थिति यहाँ भी बहुत कुछ भारत जैसी ही लगी। पत्रकारिता शिक्षण का मीडिया उद्योग के लिए स्किल्ड मैनपावर तैयार करना पहला ध्येय दिखा, इसका समाज को प्रभावित करने वाले तथा शोधपरक पक्ष पर ध्यान कम लगा। समय अभाव के कारण प्रो. सायना के साथ अधिक चर्चा तो नहीं हो पायी, लेकिन कुछ यादगार क्लिप्स के साथ हम बापिस आ जाते हैं।


पॉजिटिव जर्नलिज्म में इनकी खास रुचि दिखी। लगा कि हर समाज एवं देश में मीडिया की अधिकाँशतः नकारात्मक भूमिका के कारण एक विकल्प के रुप में हर जगह सकारात्मक पत्रकारिता की आवश्यकता अनुभव की जा रही है।

शाम को होटल में मनोविज्ञान के प्रो. मैकेन्जी के साथ डिन्नर पर मुलाकात होती है।

यहाँ पर सूप, पनीर की सब्जी और सामने-सामने कार्बन गैस से तैयार हो रही आईस-क्रीम का लुत्फ लिया। हमारी शाकाहारी पृष्ठभूमि को देखते हुए वो भी ऐसी डिश लेते हैं। मनोविज्ञान विभाग की ही इरेस्मस इंचार्ज प्रो. अलेग्जैंड्रा से भी यहां मुलाकात होती है, जो अगले दिनों सपरिवार हमें बिडगोश के पड़ोस में ऐतिहासिक किला घुमाने वाली थीं।


अगले दिन (24मई, 2019, शुक्रवार) हमारी मुलाकात शिक्षा विभाग के अध्यक्ष एवं प्रो. पोअटर से होती है, जो शिक्षा दर्शन में खासी दखल रखते हैं तथा इनके साथ यूरोप की अध्यात्म परम्परा पर गंभीर चर्चा होती है और इनका भारतीय अध्यात्म परम्परा से परिचय करवाते हैं, जिसमें वे खासी रुचि लेते रहे। शिक्षा में जीवन प्रबन्धन का देवसंस्कृति विवि में चल रहा प्रयोग इनको भाया व इसके आज की शिक्षा में महत्व को स्वीकारा।

आज फिर यहाँ के आधुनिक पुस्तकालय को देखने का मौका मिलता है, जिसका हम बाहर से कल दर्शन कर चुके थे। स्वयं प्रो. क्रिस्टोफ आज हमारे साथ थे। इस अत्याधुनिक पुस्कालय में लाखों पुस्तकें हैं, जो पूरी तरह से डिजिटल हैं। यहाँ पढ़ने की उमदा व्यवस्था दिखी। विद्यार्थी अलग-अलग कक्ष में भी पढ़ सकते थे और सामूहिक रुप से भी। यहाँ पुरानी पुस्तकों का संग्राहलय भी देखा, जिनके संरक्षण का विशेष प्रयास रहता है तथा कुछ पुस्तकें तो ऐसी हैं जिन तक पहुँच मात्रा 2-3 लोगों की ही रहती है।

प्रो. सायना की पारिवारिक समस्या के कारण आज इनसे मुलाकात नहीं हो पाती। मानविकी एवं समाज विज्ञान के गगनचूम्बी भवन में इनके पत्रकारिता विभाग में टेक्निकल इंचार्ज प्रो. पीटर से मुलाकात हुई, जहाँ पत्रकारिता के प्रेक्टिकल चलते हैं और इनका अपना रेडियो स्टेशन भी। पीटर के साथ पत्रकारिता विभाग के पाठ्यक्रम, ट्रेनिंग, प्लेसमेंट आदि पर विस्तार से चर्चा हुई।

शाम को इंटरनेशनल रिलेशन विभाग की प्रमुख एन्यिला बेकर के संग शहर के सबसे बड़े मॉल में पहुँचते हैं, जो इनके घर के रास्ते में पड़ता है। यहाँ की चमक-दमक चौंधियाने वाली थी तथा दाम भी काफी उँचे थे। यहाँ के दर्शन कर बापस आते हैं और लौटते समय रास्ता भटक जाते हैं। अनुमान के हिसाब से हम बर्डा नदी के किनारे पैदल चलते रहे और पुल पार कर लगा अपने गन्तव्य की ओर पहुँच रहे हैं, लेकिन लगभग 7 किमी पैदल बढ़ते के बाद पता चला कि हम गलत दिशा में थे।

रास्ते में पूछते भी रहे लेकिन कोई अंग्रेजी न जानने के कारण समझा न पाया, जब एक अंग्रेजी बोलने वाली महिला ने स्पष्ट किया कि हम गलत दिशा में जा रहे हैं। महिला ने फोन से टेक्सी मंगाई, जो दो मिनट में पहुँच गई और हमें अपने गन्तव्य स्थान तक पहुँचा दिया। यहाँ की यह सहयोग वृति और ड्राईवर की ईमानदारी हमें बहुत अच्छी लगी।

अगले दिन (25मई,2019,शनिवार) आकादमिक एक्सचेंका व्यस्त कार्यक्रम कुछ हल्का हो रहा था। अगली सुबह यहाँ के पार्क में मॉर्निंग वॉक करते हैं, जो हरा-भरा एवं एकांत-शांत था।

बड़े-बड़े पेड़ इसकी सुंदरता को चार चाँद लगा रहे थे। झाडियों, खुशबूदार फूलों के बीच-बीच में यहाँ की कला, साहित्य, संगीत की विभूतियों के पत्थर पर बने समारक-बूत रोचक लगे, जो यहाँ के लोगों के बीच कला एवं संस्कृति में रुचि एवं महत्व को दर्शा रहे थे। पार्क की सफाई पर यहाँ विशेष ध्यान रखा जाता है, यदि किसी का कुत्ता गंदगी करता है, तो मालिक तुरन्त पालिथीन के ग्लब्ज पहनकर साफ कर कूड़ेदान में डाल देता है। भारत में हम यह सब सोच भी नहीं सकते।

दोपहर किले में प्रो.अलेग्जेंड्रा के साथ घूमने गए। बिडगोस्ट शहर के बाहर अठाहरवीं सदी का यह किला आधा-पौने घंटे की दूरी पर था। रास्ता बिस्तुला नदी को पार कर हरे-भरे जंगल के बीच होकर गुजरता है। किला एकांत स्थल पर, जंगल से घिरा था, जिसमें उतार-चढ़ाव भरे मैदान दिखे। लोग परिवार के साथ यहाँ पिकनिक मना रहे थे, हालांकि संख्या कम ही थी। यहाँ के ट्रेकिंग ट्रेल की पूरी परिक्रमा की।

बीच में कृत्रिम झीलों के दर्शन किए। जंगल के बीचमार्ग बहुत ही मनोरम लग रहा था। मन के तार स्वतः ही प्रकृति की नीरव-शांति से जुड़ते अनुभव हो रहे थे। जंगल के किनारे जालीदार दिवाल के पार बाहर गाँब बसा दिखा। जंगल की परिक्रमा कर आखिर यहाँ के म्यूजियम में आए, जिसमें पूरे यूरोप के प्यानों का संग्रह है।

तीन मंजिले इस संग्राहल में  पयानों का अद्भुत संग्रह, संगीत प्रेमियों के लिए किसी तीर्थ स्थल से कम नहीं। हम अधिक तो नहीं समझ सके, लेकिन इनकी निष्ठा दिल को छू गई। एक कक्ष में बैठकर यहाँ के संगीत एवं कला प्रेम की भावना को अनुभव किया और नीचे जमीं के अंदर बने कमरों के भी दर्शन किए।

प्रो.अलेक्जेंड्रा के परिवार के साथ यहाँ के एक वेगन रेस्टोरेंट में रात का डिन्नर किया। मालूम हो कि नोन-वेज प्रधान यूरोप में माँसाहार के खिलाफ एक मूक अभियान चल रहा है, जो शाकाहार से भी दो कदम आगे वेगन के रुप में है, जिसमें पशुओं से प्राप्त दूध के उत्पाद, जैसे दूध, दही, पनीर आदि भी नहीं लिए जाते।

आज की शाम को, यहाँ के स्थानीय मॉल के नाम रही। बाजिव रेट पर यहाँ से घर पर गिफ्ट के लिए सामान खरीदे। यहाँ बिक्री के लिए सजी रंग-बिरंगी सब्जी-फलों की दुकानों के दर्शन बहुत रोचक लगे।

फूड़ कोर्नर में कॉफी पी, जिसका स्वाद हमारे लिए सदा की तरह कौतूक का विषय रहा, जिसमें 10-12 चीनी के पाउच मिलाकर पीने लायक बना पाए। अब कमरे में सामान के पैंकिंग की बारी थी। पता ही नहीं चला कि सप्ताह कैसे बीत गया।

    पौलेंड प्रवास की यात्रा के अंतिम चरण को पढ़ सकते हैं, अंतिम ब्लॉग पोस्ट में, पोलैंड यात्रा, भाग-9, घर बापसी और यादों को समेटता विदेश का सफर