गुरुवार, 29 सितंबर 2022

यात्रा डायरी - शिमला के बीहड़ वनों में एकाकी सफर का रोमांच, भाग-2

बाबा शिव का बुलावा और मार्ग का रोमाँचक सफर

रास्ते में शिमला लॉयन क्लब द्वारा वृक्षारोपण का विज्ञापन पढ़कर अच्छा लगा। बाँज के वृक्षों के बीच देवदार के पौधों को बढ़े होते देखकर मन प्रमुदित हुआ। मन में भाव फूट रहे थे कि भगवान शिव इन समझदार व जिम्मेदार लोगों पर अपने अजस्र आशीर्वाद बरसाए। (गॉड शिवा ब्लैस दीज केयरिंग सॉउल)। सीधी उतराई में काफी नीचे उतरते गए। वन की सघनता, नीरवता और गहराती जा रही थी। लो आखिर मंदिर की झलक झाँकी मिल ही गई। थोड़ी की देर में हम इसके पास में थे। वाईं और पहाड़ी शैली में एक छोटा सा मकान, संभवतः जंगलात का है या पूजारीजी के रहने का ठिकाना। दाईं और मंदिर है, छोटा लेकिन कुछ फैला सा, एक मंजिला। लाल रंग से पुता, सीमेंटड़ पिरामिडाकार छत्त लिए हुए। चप्पल, गेट के जुत्ता स्टैंड पर उतारकर आगे बढ़े।

निर्देश पढ़कर बाउड़ी तक उतरे। निर्मल जल ताले में सुरक्षित दिखा। सिक्के पानी की तह में पड़े थे। इसके ऊपर लाल गुलाब स्थिर अवस्था में तैर रहे थे। बाउड़ी का यही जल नीचे पाइप से झर रहा था एक दूसरी बाउड़ी में। यहाँ बाउड़ी से जल कहाँ जाता है, नहीं दिखा, न ही समझ आया, न ही खोज की। संभवतः नीचे कहीं झरता होगा, जायरु (पहाड़ी स्प्रिंग वॉटर) बनकर। पास में रखे जग में झरते निर्मल-शीतल जल को भरकर अपनी तेज प्यास बुझाई। पैरों पर जल डालकर इनपर लगी धूल साफ की और थकान भी। और कुछ छींटे पवित्रिकरण के भाव के साथ छिड़ककर मंदिर में प्रवेश की तैयारी की। बग्ल में ब्रह्मलीन बाबा की अखण्ड धुनी भी थी। पहले मंदिर में पहुँचे। देवदर्शन किए, पूजारीजी से चरणामृत प्रसाद लिए। अनुमति लेकर नीचे धुनी में आ गए।

कमरे में प्रवेश किए। धुना सुलग रहा था। कमरे के कौने में लकड़ी के बड़े-बड़े लट्ठे पड़े थे। एक बड़ा सा लठ धुनी में सुलग रहा था। सामने चौकी पर बाबा का एक फोटो, दूसरा स्कैच चित्र रखा था। सामने चरणपादुकाएं। अखण्ड धुनी की राख को अनिष्ट निवारक, अलौकिक बताया गया था। इस तीर्थ स्थल की कुछ विभूति कागज की पुड़िया में रखकर हम बाहर निहारने लगे। हालाँकि हमारी सीधी सी स्पष्ट सोच है कि इस सृष्टि में कुछ भी मुफ्त में नहीं मिलता, सब अपनी पात्रता के अनुरुप रहता है। हमें यहाँ के एकांत-शांत परिसर, आध्यात्मिक ऊर्जा से आवेशित वातावरण, बाहर दो छोटी-छोटी खिड़कियों से घाटी, जंगल और शिमला के विहंगम दृश्य, अनुपम व अद्वितीय लग रहे थे। हम इन सबके बीच एक दूसरे लोक में विचरण की अनुभूति कर रहे थे।

कुछ देर भोले बाबा का ध्यान किए, जीवन की नीरवता, आध्यात्मिक सत्य और जीवन लक्ष्य पर विचार केंद्रित किए। मन में भाव उठा कि किन्हीं फुर्सत के दिनों में, समय लेकर यहाँ बैठेंगे, साधना-अनुष्ठान करेंगे। जो भी हो, समय सीमा को ध्यान में रखते हुए बाबाजी से मिलने चले। प्रसाद में मिले मीठे दाने गिने, पूरे 22 थे। 2 को शिव शक्ति का रुप मान ग्रहण किए। भाव रहा कि दोनों जगतपिता, जगनमाता का कृपा प्रशाद धारण कर रहे हैं।

पूजारी भीमदास से अपना परिचय कराया। पूजारीजी कुछ रिजर्व प्रकृति के थे, मौन प्रधान लगे। उन्हें सहज करने, खोलने के लिए अपनी पूरी कथा-गाथा बताई। कहाँ से आए हैं, कैसे आए हैं, अकेले क्यों, आगे साधना-अनुष्ठान की मंशा भी जाहिए किए। घड़ी में शाम के साढ़े पाँच बज रहे थे। ऊपर माँ तारा का मंदिर दूर लग रहा था, मन में संशय था कि इस समय वहाँ से शिमला के लिए बस मिलेगी भी या नहीं।

हमारी दुविधा को देखते हुए पूजारीजी ने मार्गदर्शन करते हुए कहा - सीधा रास्ते पर आगे बढ़िए, एक घंटे में तारा देवी स्टेशन पहुँच जाओगे। ऊपर तारा देवी मंदिर से बस अब मिलने से रही। भीमदासजी को प्रणाम कर हम चल दिए। शिवालय मंदिर परिसर से चार सफेद पुष्प (शिव परिवार के प्रतिनिधि) पॉकेट में डालकर, बाँज के बीहड़ वन में प्रवेश कर गए।

वन की सघनता बढ़ती गई, बैसी ही नीरवता और गंभीरता भी। रास्ता पर्याप्त चौढ़ा था, सो गिरने फिसलने का कहीं कोई भय नहीं था। सीधा मार्ग धीरे-धीरे चढ़ाई में बदल गया। इस निर्जन प्रदेश में जंगली जानवरों का अज्ञात सा भय अचेतन मन पर छाना स्वाभाविक था। पूरे मार्ग भर शिव मंत्र का जप एवं सुमरण चलता रहा। अप्रत्याशित खतरे-हमले के लिए हाथ में पत्थर और ड़ंडा ले रखा था। इसी क्रम में जंगल पार हो चला था।

जंगल के लगभग अंतिम छोर पर विश्राम के लिए पत्थर का एक चबूतरा बना था। यहाँ पर कुछ देर विश्राम कर, पीछे मुड़कर तय किए गए मार्ग को निहारा। जंगल की विहंगम दृश्यावली मनोरम, आलौकिक, अद्वितीय और अनुपम थी। आश्चर्य हो रहा था कि इतने सुन्दर व घने जंगल से होकर यह पथिक अकेला सफर तय किया है। 


वन के ऊपर माता का मंदिर और ह्दय क्षेत्र में शिव का प्राचीन मंदिर। काश कैमरा होता। बैसे आँख के कैमरे से चित्त के पटल पर यह विहंगम दृश्य हर हमेशा के लिए अंकित हो गया था। (हालाँकि बाद की समूह यात्रा में अगले वर्ष यहाँ की फोटोग्राफी का संयोग बनता है।)

विश्राम के साथ कुछ दम भरने के बाद फिर मंजिल की ओर आगे बढ़ चले। आगे फिर जंगल आ गया, देवदार से भरा। इसको पार करते ही कुत्ते के भौंकने की आवाज़ आई। इसकी मालकिन दो पहाड़ी महिलाएं ढलवां पहाडियों में नीचे घास काट रहीं थी। उनके बुलाने पर शेरु कुछ शांत हो गया, हमारे प्यार भरे उद्बोधन और हाथ में डंडे को देखकर भी वह मार्ग से हट चुका था।

आगे रास्ता धार या रिज से होकर आगे बढ़ रहा था। दाएं भी रास्ता और वाएं भी। दाएं का चुनाव किया, यह सोचकर कि शिमला दाएं ओर जो ठहरा। आगे जंगल औऱ घना होता जा रहा था। फिर दो राहें। यहाँ भी दाईं राह परर चल पड़ा। लेकिन थोड़ी दूर पर पत्थर-सीमेंट का गेट मिला। आगे बढ़ने पर समझ आया कि किसी की स्थापना है यह। सो वाएं रास्ते से चल पड़ा। ढलवाँ, संकरा और घने वृक्षों से आच्छादित पगडंडी से होकर अब गुजर रहा था। शीघ्र ही नीचे वाहनों की आवाजें आना शुरु हो गई थी, साथ ही स़ड़क भी दिख रही थी। लगा मंजिल के बहुत करीब हैं अब हम।

लो, सामने भवन दिख रहे हैं। मानवीय बस्ती आ गई है। कुछ देर में हम सड़क पर उतर आए। यह क्या, हम तारा देवी स्टेशन पहुँच चुके थे। यहीं पास के एक पहाडी ढावे में बैठते हैं, इतने लम्बे सफर के बाद शीतल जल। चाय भी बन रही है। एक कप और बना देना। इस तरह चाय की चुस्कियों के साथ पिछले घंटों की यादगार यात्रा की जुगाली के साथ आज के ट्रेकिंग एडवेंचर, शिवालय दर्शन की रोमाँचक यात्रा की पूर्णाहुति होती है।

तारादेवी स्टेशन से सीधे टुटीकंडी आइएसबीटी बस मिलती है। टुटीकंड़ी बस-स्टैंड से पुराने बस-स्टैंड पहुँचते हैं। बहाँ से बालुगंज, जहाँ प्रख्यात कृष्णा स्वीट्स में दूध-जलेबी की मन भावन डिश का आनन्द लेते हैं। यहाँ से एडवांस स्टडीज के शांत कैंपस में प्रवेश कर अपने कमरे में पहुँचते हैं। बिस्तर पर कमर सीधी करते हुए, कुछ पल विश्राम करते हैं। इस बीच दिन की यात्रा के रोँमाँचक अनुभवों को निहारते हुए गाढ़ा अहसास हो रहा था कि कैसे मन की गहरी चाहत या कहें बाबा के बुलावे पर आज की यादगार यात्रा का संयोग बना था और पग-पग पर उसका दिव्य संरक्षण व मार्गदर्शन मिला था।

इसके भाग-1 के लिए पढ़ें - यात्रा डायरी - शिमला के बीहड़ वनों में एकाकी सफर का रोमांच

बुधवार, 31 अगस्त 2022

यात्रा डायरी - शिमला के बीहड़ वनों में एकाकी सफर का रोमांच

 बाबा शिव का बुलावा और मार्ग का रोमाँचक सफर

शिमला के बीहड़ वन, शिव मंदिर और तारादेवी हिल

 दोपहर के भोजन के बाद मन कुछ बोअर सा व अलसाया सा लग रहा था। बोअर कुछ इस तरह से कि एडवांस स्टडीज का कोई सेमिनार या प्रेजेंटेशन आदि का बंधन आज के दिन नहीं था, क्योंकि यहाँ के प्रवास का काल लगभग पूरा हो चुका था, सामूहिक भ्रमण का कार्यक्रम भी सम्पन्न हो चुका था। (संस्मरण वर्ष
2013 मई माह का है)

एक माह के दौरान शिमला के कई स्थलों को मिलकर एक्सप्लोअर किया था, लेकिन शिमला में शिव के धाम की खोज शेष थी। कल सुबह ही विक्रम ने सफाई के दौरान सुबह बीज डाल दिया था कि तारा देवी शिखर के नीचे शिव का बहुत सुंदर व शांत मंदिर है। आज दोपहर के खाली मन में एडवेंचर का कीड़ा जाग चुका था कि आज वहीं हो लिया जाए। कोई साथ चलने को तैयार न था, सो यायावरी एवं तीर्थाटन की मनमाफिक परिस्थितियों सामने थीं। कमरे में आकर विश्राम का विकल्प भी साथ में था, लेकिन परिस्थिति एवं मनःस्थिति का मेल कुछ ऐसे हो रहा था कि लगा जैसे बाबा का बुलावा आ रहा है और मन की पाल को हवा मिल गई, कि चलो शिवालय हो आएं।

एडवांस स्टडीज शिमला का ऐतिहासिक भवन एवं भव्य परिसर
 

एडवांस स्टडीज के गेट के बाहर बालूगंज से बस भी मिल गई थी। सीधा शिमला के पुराना बस अड्डा उत्तरे। यह क्या, यहाँ तो एक ही बस खड़ी नहीं थी तारा देवी मंदिर के लिए। रास्ते में शोधी या तारा देवी स्टेशन पर उतरने का कोई ईरादा न था। कौन चलेगा दूसरी बस में। जाएंगे तो सीधा माता के द्वार पर उतरेंगे, फिर देखेंगे आगे की शिव मंदिर यात्रा।

लगभग एक घंटा बीत गया बस के आगे पीछे भागते, ड्राइवर व सवारियों से बस का पता-ठिकाना पूछते..। इसी बीच अपने बी.टेक. लुधियाना के सहपाठी अवस्थीजी की कोचिंग अकादमी - विद्यापीठ के दर्शन भी हो गए। फुर्सत में मिल लेंगे इनसे बाद में। लो बस आ गई, शोघी तक। चलो वहां तक ही सही, वापस आ जाएंगे, यदि वहाँ से सीधे तारा देवी मंदिर के लिए बस न मिली तो। कुछ ऐसा ही हुआ भी। शोघी से स्कूल बच्चों से भरी एक लोक्ल बस में बैठ गए, कुछ मिनट खड़े खड़े यात्रा करते हुए स्कूली बच्चों के साथ बस ने हमें राह में उत्तार दिया। लेकिन तारा देवी का प्रवेश गेट और रास्ता तो पीछे है 300 मीटर लगभग। सवा 2 किलोमीटर ऊपर है मंदिर अभी।

कुछ देर बस-टैक्सी आदि की उम्मीद में खड़े रहे, लेकिन जल्द ही ना उम्मीद होकर अपनी सबसे विश्वस्त 11 नंबर की गाड़ी से चल दिए। सड़क को छोड़कर शॉर्टकट पगडंडी का सहारा लिए। पत्थरों पर बज्री नुमा पत्थरों पर ऊपर चढ़ने से आज की यात्रा की कठिन शुरुआत हो चुकी थी। ऊपर मुख्य मार्ग पर कुछ टैक्सी अभी चल रही थी। लेकिन इन्हें एक अजनबी पथिक से क्या लेना देना। 

शिमला का वैली व्यू (प्रतिनिधि फोटो)
 

ऊपर देखता, मंदिर का भवन काफी ऊपर था। राह में धूप सीधे बरस रही थी, साथ ही ठंडी हवा भी, नीचे गांव सड़क घाटी का हरा-भरा विहंगम दृश्य सुहावना लग रहा था। प्यास भी लग रही थी। पानी की कोई व्यवस्था साथ नहीं थी, क्योंकि सोचा नहीं था कि ऐसी ट्रैकिंग की भी नौबत आएगी। यह आज मेरी कौन सी परीक्षा ली जा रही थी,  व यह कौन सी शक्ति मुझे इन सुनसान राहों पर ऊपर बड़ा रही थी। यह तो भगवान शिव ही जाने, जिनके द्वार तक हम संकल्पित हो कर चल पड़े थे। अभी तो सीधे ऊपर तारा देवी का मंदिर था।  

शॉर्टकट पगडंडी से ऊपर चढ़ा ही था कि बड़ी सी पानी की सीमेंट टंकी दिखी। आवाज आ रही थी अंदर से पाइप में पानी के निकासी की, लेकिन नल कहीं ना दिखा। खाली हाथ ऊपर बढ़ चला। रास्ते में यह क्या, नीचे आवाज आ रही थी जानी पहचानी हॉर्न की और छुक-छुक की भी। तो यहीं नीचे सुरंग से होकर रेल्वे ट्रैक आगे बढ़ता है। कुल मिलाकर सामने एक रोमांचक दृश्य था। शिमला-कालका ट्रैन पहाडियों के बीच लुका-छिपा करती हुई सुरंगों के आर पार हो रही थी।

हम भी अपनी मंजिल तारा देवी शिखर की ओर बढ़ रहे थे, जहाँ से हमें शिव मंदिर के लिए दूसरी ओर नीचे उतरना था। सड़क पार कर चोड़ी पगडंडी मिली, लगा पक्की सड़क बनने से पहले तीर्थ यात्री इसी राह से सामान के साथ घोड़ा आदि के साथ जाते रहे होंगे। आज भी हो सकता है श्रद्धालु पर्व त्योहारों में इसी राह से चढ़ते उतरते होंगे। 

रास्ता चीड़ की सूखी पत्तियों से ढका था, कुछ-कुछ फिसलन भरा। लेकिन इनके साथ अपनी बचपन की विरल यादें अचेतन की अतल गहराईयों से उभर कर आज ताजा हो रहीं थी। भूंतर के आगे मणिकर्ण घाटी में शड़शाड़ी से पुलपार कर ओल्ड़ जाते समय ऐसे ही चीड़ पत्तियों से भरे रास्ते बचपन में देखे थे, बुआजी की बड़ी बेटी की शादी में शरीक होने गए थे। आज वो पुरानी यादें ताजा हो रहीं थीं।

एक ओर याद ताजा हो उठी। यह जंगली झाड़ियों में खट्टी-मिठी आँछ (बुश बैरी) को बीन कर खाने का अनुभव था। कुछ-कुछ पानी की कमी इनसे पूरी होती अनुभव कर रहा था। बीयर ग्रिल के मैन वर्सेज वाइल्ड का एक पात्र खुद को अनुभव कर रहा था। सच में निपट अकेला, बिना किसी तैयारी के भोलेनाथ शिव के दर्शनार्थ उनके धाम की खोज में। बीहड़ वन के सन्नाटे को चीरते हुए हम अकेले बड़ रहे थे।

अब रास्ता मुख्य मार्ग से अलग हो गया था। ऊपर दूर मोड़ दिख रहा था। बीच का सफर अपने गाँव के पीछे (बनोगी गांव के ऊपर और रेऊंश के नीचे का वन क्षेत्र) बीहड़ बनों में बचपन के बिताए रोमाँचक पलों को तरोताजा कर रहे थे। रास्ते भर खट्टी मिठी बुश बैरी की हरी भरी झाडियां जहाँ भी मिलती गईं, उनसे दो-चार दाने तोड़कर सेवन करता रहा।

मार्ग में लेबर काम करते मिले। अपना रोल्लर आगे-पीछे कर रहे थे। एक थके हैरान-परेशान लेकिन लक्ष्य केंद्रित तीर्थ यात्री को वे कौतुक भरी निगाहों से देख रहे थे। बात-चीत करने का न समय था और न ही मनःस्थिति। राह में उतरता हुआ एक यात्री दुआ-सलाम कर कुछ मन हल्का व आश्वस्त करता प्रतीत हुआ। इस निर्जन राह में एक आस्थावान श्रद्धालु के दर्शन व उसका आत्मीय स्पर्श  निःसंदेह रुप में सकूनदायी लगे।

शिमला के ट्रेकिंग ट्रैल्ज - (प्रतिनिधि फोटो)

इनको पार कर आधे से अधिक मार्ग, लगभग डेढ़ किमी तय हो चुका था। आगे मुख्य मार्ग से पत्थर की सीढ़ियाँ और कछ घने वन से होकर रास्ता पार किया। मुख्य मार्ग पर आते ही – लो यह क्या। ऊपर माँ का मंदिर दिख रहा था, सहज विश्वास न हुआ कि पहुँच गए। अब एक मोड़ और बस...। कुछ पल बैठ दम भरा। प्यास लगी थी, लेकिन पानी न था। फिर आगे बढ़ चले। यह क्या मोड़ पर शिव मंदिर का बोर्ड लगा था। क्यों न सीधे इस मार्ग से बढ़ चलें, पहले शिव बाबा के दर्शन कर लें, वहीं तो आज की मूल मंजिल थी, फिर देखेंगे ऊपर माता का द्वार, जहाँ पिछले दो रविवार आ चुके थे वहाँ। तब शिवमंदिर का बोर्ड पढकर उतरने की इच्छा जगी थी, लेकिन साथी लोग तैयार नहीं थे। लगा, जो होता है, अच्छा ही होता है।

अब हम पगडंडी पर बढ़ चल रहे थे, जो बहुत ही संकरी थी। बाँज के पत्तों से भरी, फिसलन भरी थी। एक कदम दाएं कि सीधे नीचे गए गहरी घाटी में। हालाँकि बांज के घने पतले वृक्ष बीच में रोक सकते हैं, लेकिन चोट तो काफी गंभीर लग सकती है ऐसे में...। हम एकाकी आगे बढ़ रहे थे, पीछे ऊपर माता का मंदिर दिख रहा था। शनै-शनै हम जितना नीचे उतरते गए, मंदिर पीछे छूटता गया और अब दृष्टि से औझल हो चुका था व आगे जंगल और घना होता जा रहा था। बढ़ते बढ़ते दूर कुछ हलचल दिखी, बंदर कूद रहे होंगे, नहीं ये तो गाय जैसा पशु लगा। पास में वन विभाग का बोर्ड भी दिखा। यहाँ जंगल में लोगों के छोड़े हुए मवेशी चर रहे थे।

बीच राह में किसी तरह के अप्रत्याशित खतरे या हमले से निपटने के लिए एक हाथ में नुकीला पत्थर और दूसरे हाथ में एक ठूंठ का डंड़ा हम थाम चुके थे। (जारी....शेष भाग-2 व अंतिम किस्त अगली पोस्ट में - यात्रा डायरी - शिमला के बीहड़ वनों में एकाकी सफर का रोमांच, भाग-2)  

तारा देवी हिल्ज के बीहड़ बन और बांजवनों के मध्य शिवमंदिर

रविवार, 31 जुलाई 2022

यात्रा डायरी, सावन-2022, भाग-1

यात्रा डायरी, सावन-2022, भाग-1



सावन में पहाड़ों की यात्रा हमेशा ही हमारे लिए रोमाँच भरा अनुभव रहती है। हालाँकि इस मौसम में यात्रा के अपने जोखिम भी रहते हैं, भूस्खलन से लेकर बाढ़ और बादल फटने जैसी तमाम तरह की प्राकृतिक विपदाएं पहाड़ों में आए दिन घटती रहती हैं। लेकिन हम अभी तक इस संदर्भ में सौभाग्यशाली रहे हैं, प्रकृति का दैवीय संरक्षण मिलता रहा है।

19 जुलाई 2022, पारिवारिक कार्य से घर जाने का संयोग बन रहा था, सपरिवार हरिद्वार से 4 बजे की बस में बैठ जाते हैं। हिमाचल परिवहन की बसों में ऑनलाईन बुकिंग की सुबिधा के चलते सीट आसानी से अपनी पसन्द के हिसाव से मिल गई थी। पहली बार परिवहन की 2,3 ऐसी हिमधारा बस में बैठ रहे थे। एकदम नया मॉडल, सीटें भी आरामदायक। ऐसे लग रहा था जैसे हमारे लिए ईश्वर ने यात्रा की विशेष व्यवस्था कर रखी हो।

दोपहर ठीक 4,20 पर बस चल पड़ती है। देवपुरा चौक से वायं मुड़ते ही कुछ ही देर में गंगनहर पार होती है, फिर उत्तर की ओर बढ़ते हुए शंकराचार्य चौक से नीचे मुड़ती है। फ्लाईऑवर बनने से सीधे सड़क को पार करना अब कठिन हो गया है, सो यह कवायद रहती है। अब हम पुनः थोड़ी देर में फ्लाईऑवर से गुजर रहे थे। दायीं और गंगनहर साथ में थी तो बाईं और कनखल के नजारे। इसी क्रम में गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय आता है, कन्यागुरुकुल, ज्वालापुर और फिर बहादरावाद वाइपास।

इस बार सावन के मौसम की विशेषता थी, सड़क पर शिवभक्त काँवड़ियों की भरमार, पूरा मार्ग का इनकी भक्तिमयी एवं अलमस्त चहलकदमी से अटा पड़ा था। रंगविरंगी कांवड़ को कंधे पर टाँगे कांवड़िए बोल बम के नारे के साथ अपनी मंजिल की ओर बढ़ रहे थे। यह सिलसिला बिना किसी ब्रेक के रुढ़की तक देखने को मिला। अधिकाँश पैदल चल रहे थे, तो कुछ गाड़ी में तथा कुछ ट्रैक्टर व बाईक में।

रास्ते में तिरंगों की भी भरमार दिख रही थी। शिवभक्ति और देश भक्ति के जज्वे का अद्भुत दृश्य पूरे श्बाव पर दिख रहा था। इस मार्ग की यात्रा का आडियो-विजुअल दृष्टाँत नीचे दी गई विडियो क्लिप में भी देखा जा सकता है।

 

राह में मार्ग डायवर्ट होता है औऱ थोड़ा देर में बारिश शुरु हो गई थी। इसके बीच रुढ़की शहर में प्रवेश होता है। बारिश काफी तेज हो गई थी, मूसलाधार बारिश के बीच बाहर के नजारे धुंधले पड़ गए थे, काँवड़ियों के दर्शन भी अब नहीं हो रहे थे। यात्रा के पहले पड़ाव में बारिश के इस विशेष अभिसिंचन के साथ मौसम भी खुशनुमा हो गया था।

रुढ़की में गंगनहर को पार करते-करते बारिश थम गई थी, अब हमारी बस ग्रामीण परिवेश से गुजर रही थी। कांवड़ यात्रा के कारण यहाँ से हमारी अम्बाला तक की यात्रा बाई पास रुट से होती रही। मार्ग में आने वाले मुख्य शहर यथा – सहारनपुर, युमनानगर आदि के बाहर से ही बस आगे बढ रही थी।

रास्ते भर खेतों के हरे-भरे नजारें नेत्रों को शीतल एवं सुखद अहसास दिला रहे थे। कहीं खेत में अभी धान की ताजा रुपाई हुई थी, कहीं जुताई के लिए खेत तैयार थे, तो अधिकाँशतः खेतों में हरी-भरी फसल लहलहा रही थी। खेतों की मेड़ पर पोपलर व सफेदा की ईमारती लकड़ियों के वृक्ष कतार में बहुत सुन्दर लग रहे थे, कहीं-कहीं पूरे खेतों में इन्हीं की खेती भी होती दिखी। कहीं-कहीं सब्जियों को भी उगते देखा, फल के बगीचों के दर्शन कम ही हुए। शुरुआती दौर में आम के बगीचे अवश्य दिखे।

इस मार्ग पर भी कांवड यात्रा के दर्शन बीच-बीच में होते रहे। रास्ते में एक-दो स्थान पर टोल-प्लाजा व फ्लाई ऑवर को पार करते हुए खेत व गाँव के दृश्य बहुत ही मनोरम व आकर्षक लगे, जिनका अवलोकन करते हुए यात्रा का पूरा आनन्द लेते रहे। इस तरह से शाम होते-होते बस अम्बाला शहर के समीप चण्डीगढ़ ढावा पर भोजन के लिए रुकती है। घर से तैयार की गई भोजन सामग्री के साथ पेट पूजा करते हैं, अंत में ढावे की चाय के साथ पूर्णाहुति करते हुए रिफ्रेश होकर आगे की यात्रा पर बढ़ते हैं। अब तक अँधेरा हो चुका था। रुढ़की से यहाँ ढावा तक के ऑडियो-विजुअल यात्रा को नीचे दिए वीडियो में भी देख सकते हैं।

 

इसके बाद अंधेरे में अम्बाला शहर से गुजरते हैं और फिर चण्डीगढ़ वाइपास से आगे बढ़ते हुए मोहाली, खरड़ से होते हुए रुपनगर (रोपड) को पार करते हुए कीर्तपुर में बस चाय-नाश्ते के लिए रुकती है। अंधेरे में हालाँकि बाहर के दृश्य खेत खलियान आदि तो नहीं दिख रहे थे, लेकिन सड़क के दोनों और भवनों में झिलमिलाती रोशनियाँ व भव्य भवन सुंदरता में चार चांद लगा रहे थे। इस रुट पर कई बार यात्रा की होने के कारण हम बाहर की लोकेशन को समझ पा रहे थे।

कीरतपुर में फ्रेश होने के बाद बस आगे बढ़ती है, व्यास-सतलुज नहर को पार करते हुए मार्ग में किरतपुर गुरुद्वारे के दूरदर्शन होते हैं, व थोड़ी ही देर में बस मैदानी इलाके से पहाड़ पर चढ़ने लगती है, हिमाचल प्रदेश सीमा में प्रवेश का स्वागत संदेश मिलता है। अगले आधे घण्टे में पहाडी की चोटी पर स्वारघाट स्थान पर पहुंचते हैं, जहाँ से एक रास्ता नालागढ़ से होकर चण्डीगढ़ जाता है। जरुरत पड़ने पर वाहन इस रुट का भी इस्तेमाल करते हैं।

स्वारघाट की पहाड़ी को पार कर बिलासपुर के दूरदर्शन होते हैं, जो गोविंदसागर झील के किनारे बसा शहर है। भाखड़ा बाँध बनने के कारण इस पर झील में पूरा शहर जलमग्न हो गया था, इसी के किनारे नया बिलासपुर शहर बसा है। रास्ते में शिखर पर नैना देवी के मंदिर की टिमटिमाती रोशनी अपनी भव्य एवं दिव्य उपस्थिति दर्शा रहीं थी। अगले 2 घण्टे में हम विलासपुर पहुँच चुके थे। यहाँ की वर्कशॉप में गाड़ी ईँधन भरने के लिए रुकती है। सवारियाँ भी बाहर निकल कर सफर की जकड़न को दूर करती हैं।

आधी रात के अंधेरे को चीरते हुए बस आगे बढ़ रही थी। सलापड़ में बस सतलुज नदी को पार करती है (जहाँ पहाड़ों के अंदर की टनल से व्यास नदी का तल विद्युत उत्पादन करते हुए सतलुज नदी में प्रवाहित होता है), फिर कुछ मिनटों में सुन्दरनगर शहर आता है और फिर मण्डी। रास्ते में बस चाय के लिए रुकती है। दस-बारह घण्टे के सफर के बाद मंडी-पण्डोह के बीच सुबह होती है। पण्डोह डेम के किनारे यात्रा आगे बढ़ती है।

रुट काफी खतरनाकर दिखता है। पहाड़ व चट्टानों को काटकर बनायी गयी संकड़ी सड़क, नीचे गहरी खाई व तली में व्यास नदी पर बने पंडोह डेम का बैक वाटर। रास्ते में पहाड़ को खोद कर बनती सुरंगे व पुल के ऊँचे पिल्लर दिखे, जो बिलासपुर-लेह रेल्वे रुट की महत्वाकाँक्षी योजना का हिस्सा हैं।

व्यास नदी के किनारे बने हनोगी माता के मंदिर से होते हुए आउट टनल को पार कर कुल्लू घाटी में प्रवेश करते हैं। सामने व्यास नदी का तीव्र प्रवाह, पृष्ठभूमि में शिखर पर बिजली महादेव के दर्शन और सड़क के दोनों ओर गगनचूम्बी पर्वत। भून्तर हवाई अड्डे के किनारे से होते हुए ढालपुर मैदान से होकर लगभग छ बजे सरवरी नदी के किनारे स्थित कुल्लू बस स्टैंड पर पहुँचते हैं।  

नवनिर्मित बस स्टैंड अपनी भव्य उपस्थिति दर्ज करा रहा था, जो हाल ही में तैयार हुआ है। यहाँ पर अपने वाहन में घर की ओर कूच करते हैं व सकुशल घर पहुँचते हैं। धन्यवाद करते हैं प्रकृति-परमेश्वर, गुरुसत्ता व देव शक्तियों को, जिनकी कृपा से रास्ते के तमाम वरसाती जोखिमों के बीच भी यात्रा सुरक्षित व आनन्ददायक रही।

इस यात्रा से जुड़े कुछ संदर्भ लिंक्स

चण्डीगढ़ से आगे के सफर को देहरादून-चण्डीगढ़ से होकर इस रुट के पूर्व में प्रकाशित यात्रा वृतांत, हरिद्वार से कुल्लू वाया चण्डीगढ़ में विस्तार से पढ़ सकते हैं।

सावन में ही इस रुट के मनोरम अनुभव को सावन में कु्ल्लू घाटी की मनोरम छटा ब्लॉग में पढ़ सकते हैं।


चुनींदी पोस्ट

पुस्तक सार - हिमालय की वादियों में

हिमाचल और उत्तराखण्ड हिमालय से एक परिचय करवाती पुस्तक यदि आप प्रकृति प्रेमी हैं, घुमने के शौकीन हैं, शांति, सुकून और एडवेंचर की खोज में हैं ...