मणिकर्ण लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मणिकर्ण लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 9 मई 2024

भाव यात्रा - गिरमल देवता संग तीर्थ यात्रा का यादगार-रोमाँचक सफर , भाग-2

 

मणीकर्ण तीर्थ से मलाणा वाया रसोल टॉप

गहरी घाटी की ढलान में बसा रसोल गाँव

दिन 4 – मणिकर्ण तीर्थ से रसोल टॉप की ओर

दिन 5 – रसोल टॉप के नीचे से मलाणा गाँव,

दिन 4 – मणिकर्ण तीर्थ से रसोल टॉप की ओर

प्रातः स्नान के बाद क्लार (सुबह का नाश्ता व लंच) करके देव काफिला बापिस कसोल की और कूच करता है। पार्वती नदी पर बने कसोल पुल को पार कर काफिला नई घाटी में प्रवेश करता है।

उस पार कसोल कस्वे की विहंगम दृश्य

उस पार छलाल गाँव के पीछे से होते हुए काफिला बढ़ी-बढ़ी चट्टानों और चीढ़ के जंगल को पार करते हुए रसोल गाँव की ओर बढ़ता है। पूरी यात्रा की सबसे खड़ी चढ़ाई इस हिस्से में थी।

रास्ते में बुराँश के ंजंगल से गुजरते हुए

मार्ग में बुराँश के सुर्ख लाल फूल से लदे वृक्ष यात्रियों का स्वागत करते हैं, जो रास्ते भर बहुतायत में दिखते रहे। रसोल गाँव को बीच से पार करते हुए कुछ यात्री आगे के मार्ग के लिए यहाँ की दुकानों से कुछ राशन भी खरीदते हैं।

 यात्रियों के जीवट की अग्नि परीक्षा लेती खड़ी चढ़ाई

रसोल गाँव को पार करते-करते जोर की बारिश शुरु हो जाती है, पथरीला रास्ता और फिसलन भरा हो जाता है। इसी के साथ रसोल गाँव के पीछे खड़ी चढ़ाई को धीरे-धीरे पार करते हुए काफिला आगे बढ़ता है। इसे पार करते हुए 6.35 बजे काफिला रसोल टॉप के नीचे खेचुमारु स्थान पर रुकता है। यहीं पर रात्रि विश्राम व भोजन की व्यवस्था होती है और प्रातः यहाँ से रवाना होते हैं।

रसोल टॉप के नीचे विश्राम स्थल

देव काफिले में 50-60 सदस्य देवता (की टीम) के साथ के थे, जिनमें 10-12 बाजा बजाने बाले बजंतरि, 10 नरकाहल बजाने वाले। फिर सभी देवी-देवताओं के एक-एक गुर व पजियारे। 8 बारी और उनके साथ 1 संगी, इस तरह 16 और इनके साथ कारदार सहित देवता के अन्य सेवक। इनके भोजन की व्यवस्था देवता की तरफ से होती थी। इनका भोजन बड़े पतीले (पोतलू) व वर्तनों में तैयार होता है। पहले देवता को भोग लगता है और फिर भोजन-प्रसाद ग्रहण किया जाता है और फिर वर्तन साफ। इसके बाद की आगे की यात्रा शुरु होती थी। बाकि 200 लोग अपना-अपना भोजन अपने समूह में बनाते हैं।

दिन 5 – रसोल टॉप से होकर मलाणा गाँव,


बर्फ के बीच सफर का रोमाँचक एवं कठिन दौर

प्रातः 6.45 पर काफिला खेचुमारु से रवाना होता है और एकदम खडी चढाई के साथ रसोल टॉप पहुँचता है, जहाँ हल्के स्नोफाल के साथ स्वागत होता है। लगता है कि जैसे घाटी की देवशक्तियों द्वारा देव काफिले का विशिष्ट स्वागत-अभिसिंचन किया जा रहा हो। 

बर्फ के बीच रसोल टॉप की फिसलन भरी राहों को पार करते हुए

रसोल टॉप से उस पार सीधे दूर चंद्रखणी धार (रिज) प्रत्यक्ष दिख रही थी, जिसे घाटी का पावन क्षेत्र माना जाता है। हालाँकि धुंध के कारण नजारा बहुत स्पष्ट नहीं था।रसोल टॉप पर पहले से जमी हुई बर्फ भी मौजूद थी, जिस कारण फिसलन भरी राह में सावधानी के साथ रास्ता पार करना पड़ रहा था। अगले लगभग आधे घंटे का सफर इसी तरह तय होता है।

टॉप से नीचे उतरते हुए सुबह 10.30 तक छोरोवाई स्थान पर पहुँचते हैं, जहाँ बारिश शुरु हो जाती है। 

छोरोवाइ में बारिश के बीच देवकाफिला देवदार के वृक्ष की शरण में

यहां मार्ग से मलाणा गाँव के दर्शन घाटी के उस पार प्रत्यक्ष थे। विश्व का प्राचीनतम लोकतंत्र मलाना कभी अपनी पुरातन संस्कृति व घर-गांव के लिए जाना जाता था। लेकिन आज यह आधुनिकता के दौर में प्रवेश कर शहरनुमा स्वरुप ले चुका है। हरी चादर से ढके चार मंजिला घर यहाँ की बढ़ती समृद्धि औऱ आधुनिकता की कहानी व्यां करते हैं। यहाँ सभी घर भूकम्परोधी काठकुणी शैली से बने हुए हैं, हालाँकि पुराने घर कुछ ही शेष बचे हैं।

छोरोवाई से उस पार मलाना गाँव का विहंगम दृश्य

घाटी के बीच में नीचे मलाणा नाला बह रहा था। जैसे ही खाना बनाना शुरु करते हैं बारिश और तेज हो जाती है और झमाझम बारिश के बीच चुल्हे जलते हैं, भोजन तैयार होता है। सभी भोजन-प्रसाद ग्रहण करते हैं और बारिश के बीच ही आगे चलने का मन बनाते हैं, क्योंकि बारिश थमने का नाम ही नहीं ले रही थी। इस तरह काफिला दोपहर के 2.30 बजे आगे बढ़ता है और यहाँ से सीधा नीचे मलाणा नाला पहुँचते हैं। फिर नाले को पार करते हुए देव काफिला चढाईदार मार्ग पर सीधे मलाना गाँव की ओर बढ़ता है।

शाम 6 बजे देव काफिला बारिश के बीच मलाणा गांव पहुँचता है। रास्ते में काफिला पूरी तरह से भीग चुका था, जिसके कारण पीठ में लदा सामान भी भारी हो गया था। बरसाती भी काम नहीं आ रही थी, उसमें भी पानी व नमी घुस गई थी। लगा कि बढ़िया पॉलीशीट ऐसी स्थिति के लिए आवश्यक है, जिससे यात्रियों से लेकर उनके बेग बारिश से सुरक्षित रह सके।

रास्ते में ही लैंड स्लाईड की लोमहर्षक घटना घटती है, जिसमें मल्बे के साथ एक बहुत बड़ी चट्टान ऊपर से नीचे गिरती है, जिसकी चपेट में 8-10 लोग बाल-बाल बचते हैं। लगा जैसे दैवी संरक्षण ने रक्षा क्वच की भाँति सबको सुरक्षित इस प्राकृतिक आपदा के पार लगा दिया हो।

मलाना गाँव में प्रवेश करते हुए देवकाफिला

मलाना पहुँचने पर मलाणा वासियों द्वारा देव काफिले के देउड़ुओं की भावभरी आव-भगत होती है। हर घर के लिए 2-4 खिंडु (मेहमान) बाँटे जाते हैं। गाँववासी उसी हिसाब से मेहमानों को अपने-अपने घर में ठहराते हैं, भोजन कराते हैं। यह स्वागत व मेहमानवाजी कुल्लू घाटी की देवसंस्कृति की आतिथ्य-सत्कार परम्परा का एक अहं हिस्सा है। घरों में आग के चुल्हे व तंदूर जल रहे थे। सभी गीले कपड़े सुखाते हैं। बाहर ठंड का अनुमान लगा सकते हैं, जो यह गाँव 9,938 फीट उंचाई पर बसा है। रात्रि विश्राम के बाद सुबह 6 बजे देव काफिला देव प्रांगण (देउए-री-सोह) में एकत्र होते हैं, और 6.40 पर आगे के लिए कूच करते हैं।

मलाना गाँव के ह्दय क्षेत्र देव प्रांगण (देउए-री-सोह) में देवकाफिला

मलाणा गाँव की कच्ची-पक्की पगडंडियों के बीच काफिला आगे बढ़ता है। धीरे-धीरे गाँव को पार करते हुए ऊपर पहुंचता है और गाँव नीचे रह जाता है। (जारि, भाग-3, मलाना से बनोगी एवं घर बापसी वाया दोहरा नाला)

चुनींदी पोस्ट

पुस्तक सार - हिमालय की वादियों में

हिमाचल और उत्तराखण्ड हिमालय से एक परिचय करवाती पुस्तक यदि आप प्रकृति प्रेमी हैं, घुमने के शौकीन हैं, शांति, सुकून और एडवेंचर की खोज में हैं ...