संदेश

नैनीताल लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मेरी पहली कुमाऊँ यात्रा, भाग-3 (अंतिम किश्त)

चित्र
                                      एडवेंचर भरी मस्ती का रोमाँच              मुनस्यारी से अल्मोड़ा की ओर बापसी - सुबह तड़के छः बजे हम मुनस्यारी से बापस अल्मोड़ा की ओर चल पड़े। जीप टैक्सी थोड़ा लेट होने के कारण हम पैदल ही कुछ दूर तक चलते रहे। रास्ते के दोनों ओर जंगली बांस के झुरमुट बहुत सुंदर लग रहे थे। इनमे से एक वांस की डंडी को काटकर हम निशानी के बतौर साथ ले लिए। क्षेत्रीय लोग इससे कई तरह की टोकरी, किल्टे, घरेलू उपयोग के सामान तैयार करते हैं। इसी से बांसुरी भी तैयार की जाती है। जीप टेक्सी आ चुकी थी। यहाँ से पहाड़ की चोटी तक का रास्ता बहुत ही सुंदर है। रास्ते की हरियाली भरे सुंदर मार्ग का अबलोकन करते रहे। काली मंदिर से ही खलिया टॉप का ट्रेकिंग रास्ता है, जहाँ से चारों ओर का विहंगम नजारा दर्शनीय रहता है, समय के अभाव के कारण इसे अगली यात्रा के लिए छोड़ आए। काला मुनि टॉप के बाद पहाड़ी की दूसरी ओर खतरनाक उतराई भरा रास्ता तय किया। रास्ते में चुने की चट्टानों से होकर रास्ता गुजरा। राह में निर्मल जल से भरा झरता झरना राहगीरों को ताजगी का अहसास बाँट रहा था। घाटी की