शुक्रवार, 29 अक्तूबर 2021

शांघड़ - सैंज घाटी का छिपा नगीना

 

शांग्चुल महादेव के पावन धाम में


शांघड़ सैंज घाटी के एक गुमनाम से कौने में प्रकृति की गोद में बसा एक अद्भुत गाँव है, जिसकी सैंज घाटी में प्रवेश करने पर शायद ही कोई कल्पना कर पाए। इसके नैसर्गिक सौंदर्य को शब्दों में वर्णन करना हमारे लिए संभव नहीं, इसे तो वहाँ जाकर ही अनुभव किया जा सकता है।

शांघड़ देवदार के गगनचुम्बी वृक्षों से घिरा 228 बीघे में फैला घास की मखमली चादर ओढ़े ढलानदार मैदान है, जिसे देवसंरक्षित माना जाता है, क्योंकि यहाँ पर शांग्चुल महादेव का शासन चलता है। किसी को इस क्षेत्र में अवाँछनीय गतिविधियों की इजाजत नहीं। यहाँ के परिसर में किसी तरह की अपवित्रता न फैले, इसके लिए यहाँ कायदे-कानून बने हुए हैं। कोई यहाँ शोर नहीं कर सकता, शराब व नशा नहीं कर सकता, मैदान तक बाहन का प्रवेश वर्जित है। यहाँ तक कि पुलिस अपनी बर्दी व चमड़े की बेल्ट के साथ प्रवेश नहीं कर सकती। नियमों के उल्लंघन पर शांग्चुल महादेव की ओर से दण्ड का विधान भी है। इस तरह दैवीय विधान द्वारा संरक्षित शांघड़ प्रकृति का एक नायाव तौफा है, जिसके आगोश में कोई भी प्रकृति प्रेमी गहनतम शांति व आनन्द की अनुभूति पाता है और यहाँ बारम्बार आने व लम्बे अन्तराल तक रुकने के लिए प्रेरित होता है।

अक्टूबर माह में हमारी यहाँ की पहली यात्रा का संयोग बनता है, कह सकते हैं कि बाबा का बुलावा आ गया था, क्योंकि कार्य़क्रम यकायक बन गया था। इस स्थान के बारे में पहले काफी कुछ सुन व देख चुके थे, लेकिन प्रत्यक्ष दर्शन शेष थे। कल्पना के आधार पर एक मोटा-मोटा अक्स बन चुका था, जो प्रत्यक्ष दर्शन के बाद कहीं टिक नहीं पाया। यहाँ के प्राकृतिक सौंदर्य में प्रवेश करते ही मन किसी दूसरे लोक में विचरण की अनुभूतियों के साथ आनन्द से सरावोर हो उठा।

घर से निकलते ही कुछ मिनटों में कुल्लू लेफ्ट बैंक से होकर यात्रा आगे बढ़ती है। बिजली महादेव के नीचे जिया पुल से होकर पार्वती नदी पार करते हुए नवनिर्मित भुंतर – बजौरा फोरलेन बाईपास से आगे बढ़ते हैं। फिर ब्यास नदी को पार करते हुए बजौरा से होकर राईट बैंक से नगवाईं, पनारसा होते हुए ओउट टन्नल को पार करते हैं। इसके बाहर वायें मुड़ते हैं और लारजी के छोटे बाँध को पार करते हुए सैंज घाटी में प्रवेश करते हैं। रास्ते में सैंज नदी और तीर्थन नदी का संगम दिखता है, जिसके आगे पुल पार करते ही दायीं सड़क बंजार की ओर जाती है, जो आगे तीर्थन घाटी से लेकर जलोड़ी पास तक पहुँचाती है, लेकिन हम वाईँ ओर मुड़कर सैंज घाटी में प्रवेश करते हैं।

यह हमारी सैंज घाटी की पहली यात्रा थी, सो इस यात्रा के प्रति उत्सुक्तता और रोमाँच के भाव स्वाभाविक थे। साथ में अपने भतीजे के फेवरेट चिप्स, कुरकुरे व फ्रूट जूस के संग आंशिक भूख की तृप्ति करते हुए यात्रा का आनन्द लेते रहे। सैंज नदी के किनारे कई झरने व जल स्रोत मिले। इस घाटी में विद्युत परियोजनाओं के दर्शन कदम-कदम पर होते गए। पता चला कि मणिकर्ण घाटी में वरशैणी के पास चल रहे हाइडेल प्रोजेक्ट से जल सुरंग के माध्यम से इस घाटी में जल पहुँचता है और इसके संग कई स्थानों पर विद्युत उत्पादन का कार्य चल रहा है, जिनके दिग्दर्शन मार्ग में कई स्थानों पर होते रहे।

रास्ते भर कहीं पहाड़ीं की गोद में, तो कहीं पहाड़ों के शिखर पर, तो कहीं जैसे बीच हवा में टंगे गाँव दिखे। कई गाँवों तक पहाड़ काटकर जिगजैग सड़कों को जाते देखा, तो कुछ लगा अभी भी नितांत एकांतिक शांति में बसे हुए हैं। 


देखकर आश्चर्य होता रहा कि लोग कितना दूर व दुर्गम क्षेत्रों में बसे हैं और ये कभी किन परिस्थितियों में ऐसे दुर्गम स्थलों में बसकर घर-गाँव तैयार किए होंगे। ये स्वयं में एक शोध की विषय वस्तु लगी, जो कभी इनके बीच रहकर अनावृत की जा सकती है।

इस संकरी घाटी के अंत में रोपा स्थान से एक सड़क दायीं ओर मुड़कर आगे बढ़ती है, जहाँ साईन बोर्ड देखकर पता चला कि यहाँ से शांघड़ मेहज 6 किमी दूर रह गया है। अब आगे की सड़क चढ़ाई भरी एवं मोड़दार निकली। क्रमशः ऊँचाई के साथ प्राकृतिक सौंदर्य़ में भी निखार आता जा रहा था। सामने घाटी में आबाद गाँव की एकाँतिक स्थिति मन में रुमानी भाव जगाती रही, कि यहाँ के लोग कितने सौभाग्यशाली हैं, जो इतने एकाँत-शांत स्थल में रहने का सौभाग्य सुख पा रहे हैं।

देवदार के पेड़ हिमालयन ऊँचाईयों में प्रवेश का पावन अहसास दिला रहे थे। कुछ ही वाहन रास्ते में मिले जो शांघड़ से बापिस आ रहे थे। राह में देसी नस्ल के नंदी व गाय देखने को मिले। लगा इस इलाके में अभी कृषि-गौपाल की देसी परम्परा कायम है। ऐसे में सड़क के किनारे चरती भेड़-बकरियों को देखकर कोई आश्चर्य नहीं हुआ। थोड़ी ही देर में साईन बोर्ड व देवदार के जंगलों से घिरी घाटी को देखकर अहसास हो चला कि हम मंजिल के करीव पहुँच गए हैं। कुछ दुकानों को पार करते हुए हम एक खाली स्थान पर गाड़ी पार्क करते हैं और शांघड़ मैदान की ओर चल देते हैं।


रास्ते में शाग्चुल महादेव की कमेटी द्वारा टंगे बोर्ड में इस पावन स्थल से जुड़े नियमों को पढ़ा। सो हम इसकी पावनता का ध्यान रखते हुए आगे कदम बढ़ाते हैं। इस बुग्यालनुमा मैदान का विहंगम दृश्य विस्मित करता है और इसके चारों ओर देवदार के गगनचुम्बी वृक्षों तथा इनके पीछे कई पर्वतश्रृंखलाओं के दिग्दर्शन रोमाँचित करते हैं। इस आलौकिक सौंदर्य को एक जगह बैठकर निहारते रहे। सामने ढलानदार बुग्याल, इसमें चरती गाय, भेड़-बकरियों के झुण्ड। इसके पार एक काष्ट मंदिर, जो शिव को समर्पित है। यहाँ से फिर हम नीचे स्लेटों से जड़ी पैदल पगडंडी तक पहुँचते हैं और इसके संग शांग्चुल महादेव के नवनिर्मित मंदिर की ओर बढ़ते हैं, जो शांघड़ गाँव में लगभग 5-700 दूरी पर बसा है।

5-7 मंजिले इस मंदिर की भव्य उपस्थिति दूर से ही ध्यान आकर्षित करती है, जो क्रमशः पास आने पर और निखर रही थी। मैदान को पार करने के बाद हम खेतों के बीच बनी पगडंडियों के साथ आगे बढ़ रहे थे। सड़क के दोनों ओर राजमां, मक्की, चौलाई जैसी यहाँ की पारम्परिक फसलें पकती दिखीं, जिनका कहीं-कहीं पर कटान भी चल रहा था। साथ ही कुछ खेतों में सेब, नाशपति व अन्य फलों के पौधे दिखे।

इस तरह कुछ मिनटों में हम शांग्चुल महादेव के मंदिर परिसर में प्रवेश करते हैँ। गाँव के उस पार निकल कर दूसरी ओर से मंदिर का नजारा निहारते हैं और साथ लाए पुष्प एवं प्रसाद को अंदर शिवमंदिर में चढ़ाकर आशीर्वाद लेते हैं। यहाँ पर 90 वर्षीय बुजुर्ग पुजारी पं. नरोत्तम शर्मा के सर्वकामधुक आशीर्वचनों के साथ कृतार्थ होकर बापिस आते हैं। रास्ते में गाय और बछड़े के साथ मुलाकात हुई, जो खेलने के मूड़ में थे। मंदिर परिसर में चाय-नाश्ता व भोजन आदि की उचित व्यवस्था दिखी। खेतों में साग-सब्जियाँ आदि उगती दिखी, जो घरेलु उपयोग में काम आती होंगी।

गाँव के खेतों को पार करते हुए हम फिर मैदान के बीच पगडंडी पर बढ़ रहे थे। यहाँ घास के मैदान में चर रही गाय, भेड़-बकरियों का दृश्य देखने लायक था। हमें पता चला कि इस मैदान को पाण्डवों ने एक रात में तैयार किया था। अज्ञातवास के दौरान पाण्डवों ने यहाँ कुछ समय विताया था। यहाँ की मिट्टी को छानकर धान की खेती की थी। आश्चर्य़ नहीं कि इसके मैदान में एक भी पत्थर नहीं खोज सकते। देवदार से घिरे इस मैदान को देख खजियार का दृश्य याद आता है। इसके नैसर्गिक सौंदर्य के आधार पर इसे मिनी स्विटजरलैंड की संज्ञा दें, तो अतिश्योक्ति न होगी। बल्कि इससे जुड़ी दैवी आस्था व पौराणिक महत्व के आधार पर यह श्रद्धालुओं व प्रकृति प्रेमियों के लिए एक सिद्ध तीर्थ स्थल है, जहाँ माना जाता है कि आपके सच्चे मन से की गई हर मनोकामना पूर्ण होती है।

यहाँ पर कुछ क्वालिटी समय बिताने के पश्चात अपने बाहन में बापिसी का सफर तय होता है। अचानक बना आज का ट्रिप हालाँकि एक ट्रैलर जैसा लगा। पूरी फिल्म तो आगे कभी खुला समय निकालकर यहाँ कुछ दिन बिताकर ही पूरा होगी। शाम को सामने के पहाड़ों से सूर्यास्त के नजारे के बीच हम नीचे रोपा तक उतरते हैं और आगे सैंज घाटी से होते हुए लारजी-आउट पहुँचते हैं और फिर बजौरा-भुन्तर होते हुए जिया पुल से पार्वती नदी को पार कर अपने गन्तव्य स्थल तक पहुँचते हैं।

समय अभाव के कारण यह टूर हमें अधूरा ही प्रतीत हुआ। लेकिन यहाँ की सुखद स्मृतियों का खुमार कई दिनों तक सर चढ़कर बोलता रहा। देखते हैं अब बाबा का अगला बुलावा कब आता है, जब इस यात्रा की पूर्णाहुति विधान के साथ पूरा कर पाते हैं। जो भी हो अकूत सौंदर्य व शांति को सेमेटे शांघड़ सैंज घाटी का एक छिपा नगीना है, प्रकृति का विशिष्ट उपहार है, जो हर खोजी यात्री व प्रकृति प्रेमी के लिए किसी वरदान से कम नहीं और आस्थावान के लिए एक प्रत्यक्ष तीर्थ। यदि आप कुल्लू-मानाली की ओर आते हैं, तो एक वार अवश्य इस डेस्टिनेशन को आजमा सकते हैं।

यहाँ आने के लिए बस, टैक्सी आदि की समुचित व्यवस्था है। शांघड़ कुल्लू से लगभग 60 किमी, भूंतर हवाई अड्डे से 45 किमी तथा समीपस्थ रेल्वे स्टेशन बैजनाथ से 117 किमी की दूरी पर है। कुल्लू से यहाँ के लिए बस और टैक्सी सुविधा उपलब्ध रहती है। बाकि चण्डीगढ़ से यहाँ के लिए मण्डी से होकर आया जा सकता है, शिमला से जलोड़ी पास या मण्डी से होकर सैंजघाटी में प्रवेश किया जा सकता है।