संदेश

मई 28, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मेरी पहली कुमाऊँ यात्रा-भाग 2

चित्र
अल्मोड़ा से मुनस्यारी, मदकोट दौलताघट से अल्मोड़ा की ओर – दौलताघट से हम लोक्ल बस से होते हुए अल्मोड़ा की ओर चल दिए। हालांकि हम रानीखेत के विपरीत चल रहे थे, लेकिन मोड़ पर रानीखेत की ओर की हिमध्वल पर्वत श्रृंखलाएं घाटी के पार एक मनोरम नजारा पेश कर रही थी। कोसी नदी के किनारे , चीड़ के जंगलों के बीच हम कुछ ही मिनटों में अल्मोड़ा पहुँचे। यहाँ से जीप टेक्सी में मुनस्यारी के लिए चल पड़े। रास्ते में चित्तई के गोलू देवता और गायत्री शक्तिपीठ को प्रणाम करते हुए आगे बढ़े। गोलू देवता यहाँ के लोकप्रिय स्थानीय देवता हैं। आगे रास्ते में चीड़ के जंगल बहुतायत में मिले। हालांकि दृश्यावली सुंदर थी , लेकिन ये सर्वश्रेष्ठ विकल्प नहीं थे। क्योंकि जितना अल्पज्ञान हमें है , उसके अनुसार , चीड़ के बन पहाडों में आग का प्रमुख कारण हैं। इनसे बिरोजा का लाभ जरुर मिलता है , लेकिन पर्यावरण की दृष्टि से ये आदर्श नहीं हैं। फिर ये पानी का बहुत अवशोषण करते हैं। एक बिरोजा के लाभ के लिए पूरे पहाड़ों को चीड़ के जंगलों से पाटना कौन सी दूरदर्शिता का काम है , यह हमारी समझ से परे रहा। ची