मंगलवार, 29 सितंबर 2020

कुल्लु से मानाली वाया राइट बैंक

ब्यास नदी के किनारे सफर का रोमाँच 

ब्यास नदी एवं कुल्लु-मानाली घाटी

कुल्लू-मानाली का नाम प्रायः एक साथ लिया जाता है। यहाँ के लिए नए आगंतुकों के लिए स्पष्ट कर दें कि कुल्लू हिमाचल प्रदेश का एक जिला है और कुल्लु इसके एक शहर के रुप में इसका मुख्यालय भी। तथा मानाली कुल्लु शहर से उत्तर की ओर स्थित 45 किमी दूरी पर बसा दूसरा शहर है, जो अधिक ऊँचाई के कारण हिल स्टेशन का दर्जा प्राप्त है। कुल्लु की औसतन ऊँचाई 4000 फीट के आसपास है, जबकि मानाली की ऊँचाई 6730 फीट के लगभग है। बर्फ से ढकी धौलाधार पहाड़ियाँ तथा पीर-पंजाल रेंज पास होने के कारण यहाँ हाईट के हिसाब से ठण्ड अधिक रहती है। शिमला की औसतन ऊँचाई (7238 फीट) मानाली से अधिक है, लेकिन बर्फ की पहाड़ियों से दूरी के कारण वहाँ ठण्ड मानाली से थोड़ा कम रहती है।

मानाली शहर का प्रवेश द्वार

    कुल्लू से मानाली का 45 किमी का सफर दोनों और पहाड़ियों के बीच 2 से 4 किमी चौड़ी घाटी से होकर गुजरता है, जिसके केंद्र में रहती है कलकल बहती हुई ब्यास नदी की निर्मल धार। जब कोई हवाई मार्ग से आता है तो वह भुन्तर हवाई अड्डे पर उतरता है और उसका सफर कुल्लू से 10 किमी पहले से शुरु हो जाता है और जो कोई बस से आता है तो वह कुल्लू से आगे मानाली की ओर बढ़ता है। 
 
भुन्तर हवाई अड्डा, बिजली महादेव से

भुन्तर व कुल्लु से मानाली के लिए लेफ्ट और राइट बैंक दोनों ओर से पक्की सड़के हैं। लेफ्ट बैंक के सफर का जिक्र हम पिछले यात्रा वृतांत में कर चुके हैं, यहाँ राइट बैंक से रास्ते में आने बाले मुख्य पड़ाव तथा रास्ते की विशेषता का विहंगावलोकन कर रहे हैं, जिससे यात्री कभी यहाँ से गुजरे तो उसको बाहर के नजारों को समझना आसान हो जाए।
 
कुल्लू-मानाली राइट बैंक एवं व्यास नदीं

भून्तर से निकलते ही वाहन भुन्तर कस्बे से होकर गुजरता है, जो बीच में माहौल कस्बे से आगे बढ़ता है। बीच में दायीं ओर एसएसबी का प्रशिक्षण केंद्र पढ़ता है और वायीं ओर आईटीआई संस्थान। इसके थोडी आगे कुल्लु शाल व टोपी-मफलर के लिए प्रख्यात भूटिको बुनकरों का मुख्यालय पड़ता है। इसी के साथ उस पार जिया गाँव पड़ता है, जिसके लिए झुला पुल से पार किया जा सकता है। इसी के आगे दायीं और सड़क के साथ शनि मंदिर स्थित है, जिसमें ओघड़ बाबाजी धुनी रमाय मिलेंगे, यदि समय हो तो इनका बेहतरीन सत्संग किया जा सकता है।

कुल्लू घाटी का नया प्रवेश रुट वाया जिया

इसके आगे दायीं ओर ब्यास नदी प्रत्यक्ष दिखती है, जिसके किनारे अंगोरा खरगोश का फार्म है, जहाँ शाल तैयार की जाती है। इसके साथ ही पिरड़ी वाटर राफ्टिंग केंद्र है, जो ब्यास नदी में राफ्टिंग की सुबिधाएं देता हैं, जो नीचे झिड़ी तक जाता है। इसके आगे गाँधीनगर शहर पड़ता है, जहाँ कुछ योगा सेंटर भी हैं, जो विदेशियों के बीच खासे लोकप्रिय रहते हैं। इसके समाप्त होते ही ढालपुर मैदान शुरु होता है। 

ढालपुर मैदान, कुल्लू शहर का प्रवेश द्वार

देवदार  के कतारबद्ध वृक्ष यहाँ प्रवेश करते ही स्वागत करते हैं। आगे चौड़ा मैदान दिखेगा, जहाँ कुल्लू का प्रख्यात दशहरा मेला हर माह अक्टूबर में आयोजित किया जाता है। यहीं पर वायीं ओर कला केंद्र है, जहाँ रात्रिकालीन सांस्कृतिक कार्यक्रम चलते हैं। इसके निचली ओर डिग्री कालेज औऱ आगे जिला अस्पताल के कई मंजिले भवन हैं। मैदान के चारों और बुढ़े देवदार के पेड़ यहाँ की विशेष पहचान है, अब इनके साथ नए पेड़ विकसित हो रहे हैं।

ढालपुर से होकर बस दायीं ओर सीनियर सेंकेडरी स्कूल के नीच से गुजरती है, जहाँ से लिंक रोड़ डुग्गीलग घाटी की ओर जाती है। 

कुल्लू-मानाली हाईवे एवं डुग्गी लग लिंक रोड़

लेकिन दायीं ओर का रास्ता सरवरी पुल को पार करते ही यू टर्न के साथ सरवरी नदीं के वाएं तट पर बस स्टैंड की ओर जाता है। रास्ते में पुल के पास शीतला माता का भव्य मंदिर पड़ता है। बहुमंजिला सरवरी बस स्टैंड निर्माणाधीन है, इसे शिमला टुटी कण्डी बस स्टैंड की तर्ज में आधुनिकतम रुप दिया जा रहा है। यहाँ कुछ देर बस रुकने के बाद आगे बढ़ती है तो रास्ते में कुल्लू का मुख्य बाजार अखाड़ा बाजार पड़ता है। घनी आबादी के बीच बसों के लिए रास्ता तंग पड़ता है, इसलिए भूतनाथ से लिंक रोड़ उस पार जाता है, जो आगे 1-2 किमी लैफ्ट बैंक के साथ आगे बढ़ते हुए रामशिला पुल से राइट बैंक की ओऱ मुड़ता है।

कुल्लू से मानाली की ओर...

 सस्पेंशन ब्रिज पिछले की बर्षों तैयार हुआ है, उसे पार करते हुए बस राइट बैंक से आगे बढ़ती है, जो थोड़ी देर में बैष्णों माता के मंदिर से होकर गुजरती है। समय हो तो ऊपर गुफा में बने इस मंदिर के दर्शन किए जा सकते हैं। इसके आगे हिमाचल परिवहन की वर्कशॉप और पुलिस लाईन को पार कर बस बाशिंग नामक छोटे कस्बे से होकर गुजरती है, जो शाल उद्योग के लिए जाना जाता है। हाल ही में विकसित यह उद्यौगिक कस्बा तमाम कारोबार से जुड़ा है। यहाँ से उतराई के बाद सेऊबाग का पुल आता है, जिसके पार सेऊबाग गाँव पड़ता है, जिसके विहंगम दर्शन बाशिंग से ही होना शुरु हो जाते हैं।

व्यास नदी के संग घाटी का विहंगम दृश्य

आगे दायीं ओर आईटीबीपी का कैंप है, जहाँ रंगरुटों का विशेष प्रशिक्षण चलता रहता है। इसके बाद बबेली कस्वा आता है, जिसमें शाल के साथ वाटर राफ्टिंग की सुबिधा रहती है। इसके आगे बन्द्रोल गाँव पड़ता है, जहाँ इलाके की बड़ी सब्जी मंडी है, लोक्ल किसानों के फल व सब्जियाँ यहीँ खप जाती हैं। ज्ञात हो कि सबसे पहले कैप्टन ली ने बंद्रोल गाँव में ही शौकिया तौर पर सेब के बाग लगाए थे। अभी यहाँ आर्मी के आफिसर रहते हैं।

लेफ्ट बैंक से रायसन साइड का नजारा

इसके आगे रायसन इलाका आता है, जो प्लम फल के लिए प्रख्यात है। यहीं पर यूथ कलब के कैंप्स ब्यास नदीं के किनारे लगे हैं, जहाँ से ट्रैकिंग की गतिविधियाँ चलती हैं। कई फिल्मों की शूटिंग भी यहाँ होती रही हैं। इसके आगे बढ़ते ही रास्ते से उस पार नग्गर घाटी तथा पृष्ठभूमि में हिमाच्छादित पर्वतश्रृंखलाएं दर्शन देना शुरु करती हैं, जो आगे काफी देर तक सफर को रोमाँचक बनाए रहती हैं। 

राइट बैंक से नग्गर, अप्पर वैली का दृश्य

इसके बाद डोबी पुल पड़ता है, जहाँ से लिंक रोड़ फोजल घाटी तक जाता है। फोजल नाला पार करते ही आगे कटराईं कस्बा पड़ता है, जिसके कुछ आगे पतलीकुहल कस्बा पड़ता है, जो यहाँ का एक प्रमुख व्यापारिक केंद्र है। यहाँ से दायीं और का लिंक रोड़ लेफ्ट बैंक नग्गर तक जाता है औऱ वायीं और का लिंक रोड़ बडा ग्राँ व अन्य गाँवों को जोड़ता है। तथा मुख्य मार्ग मानाली की ओर बढ़ता है। यह कुल्लू-मानाली के बीचों बीच स्थित है। कटराई में पुरानी सड़क के दायीं ओर कृषि अनुसंधान केंद्र और गायत्री प्रज्ञापीठ के दर्शन किए जा सकते हैं।

कुल्लू-मानाली के बीचों-बीच कटराईं से गुजरते हुए

इसके बाद वरान आता है, जहाँ स्पैन रिजोर्ट है। जहाँ कई फिल्मों की शूटिंग हुई हैं। रजनीश औशो मानाली प्रवास के दौरान यहीं रुके थे। इसके बाद 17 मील, फिर 18 मील आता है। ब्यास नदी का उछलता कूदता निर्मल जल यहाँ सड़क के साथ बहता मिलता है और पुल से उस पार लेफ्ट बैंक के गाँव जुड़ते हैं। फिर क्लाथ आता है, जहाँ गर्म पानी के कुण्ड सड़क के दोनों ओर हैं। 

मानाली की ओर...

 

यहीं पर आलु ग्राउँड प्रख्यात है, जहाँ लाहौल से आने वाला बेहतरीन आलु स्टोर होता है। इसके बाद राँगड़ी, जहाँ से उस पार पर्वतारोहण संस्थान के जंगल व भवनों का विहंगावलोकन किया जा सकता है। रास्ते में उस पार के कई नालों के  ब्यास नदीं के साथ संगम के अद्भुत दृश्य देखे जा सकते हैं। पहले सीधा मानाली शहर में प्रवेश के साथ बस स्टैंड पहुँचते थे। अब पिछले ही वर्ष नयी सड़क बनने के साथ ब्यास नदी के किनारे देवदार के जंगल के साथ सड़क आगे बढ़ती है औऱ पुल से मुड़कर मानाली बस स्टैंड तक पहुँचती है। 

मानाली में प्रवेश, नया रुट

इस तरह एक ढेड़ घण्टे में बस कुल्लू से मानाली पहुँच जाती है। रास्ते भर ब्यास नदी का किनारा और सामने के पर्वत शिखर, सुंदर हरी-भरी वादियों इस यात्रा को बहुत ही सुखद, रोमाँचक एवं यादगार बनाती हैं। यदि अपना वाहन हो तो बीच-बीच में रुककर इन नजारों का मनमाफिक लुत्फ लिया जा सकता है। 

मानाली पहुँच कर, यहाँ क्या देखा जा सकता है, यदि यह जानना हो तो पढ़ सकते हैं अगली ब्लॉग पोस्ट - मानाली से सोलांग वैली एवं दर्शनीय स्थल।

यदि कोई कुल्लू से मानाली वाया लैफ्ट बैंक की रोमाँचक यात्रा का विहंगावलोकन करना चाहता हो, तो पढ़ सकता है,यात्रा वृताँतकुल्लू से नेहरुकुंड-वशिष्ठ वाया मानाली लेफ्ट बैंक

राईट बैंंकग से पर्वतारोहण संस्थान मानाली के दर्शन