संदेश

जीवन प्रबन्धन (Life management) – क्यों व कैसे, कुछ आधारभूत बातें

  Life management की क्या आवश्यकता है , जो चल रहा क्या वही पर्याप्त नहीं है ? जब हम सुख चैन की खा पी रहेक, मौज मस्ती की जिंदगी जी रहे हैं व सबकुछ ठीक चल रहा है, तो फिर जीवन प्रबन्धन की क्या आवश्यकता ? लेकिन जो चल रहा है, क्या वह सब ठीक चल रहा है, शायद नहीं। क्योंकि अधिकाँशतः हमें पता ही नहीं कि   - हम जा किधर रहे हैं ? - जो कर रहे हैं, वो क्यों कर रहे हैं ? - आज से 10-20 वर्ष बाद इसके क्या परिणाम होने वाले हैं ? इस पर तब विचार और भी गंभीरता से करने की जरुरत हो जाती है, जब जीवन में धन, शौहरत, रौब-दौव व बहुत कुछ अचीव करने के बाद भी जीवन में संतुष्टि नहीं, शांति नहीं, सेटिस्फेक्शन   नहीं। अन्दर एक शून्यता, खालीपन का भाव। - जीवन में कुछ मजा नहीं आ रहा, इसमें सार्थकता के बोध का अभाव। जीवन गहरे   तनाव, अवसाद, खालीपन, शून्यता, असुरक्षा व भय से आक्रान्त हो रहा है। फिर यदि हम बहुत प्रतिभाशाली हैं, बहुत कुछ कर सकते हैं, तो इससे परेशान कि इग्जेक्टली हमें करना क्या है , जिससे हमारा जीवन डिफाइन हो, जीवन की पहेली का समाधान हो, जीवन का स्वधर्म समझ आ जाए तथा इसी जीवन में चिरस

टीम निर्माण की प्रक्रिया (Process of Team Building)

  Process of Team Building   TEAM BUILDING   - Selection of each member as per Team Objective, need, Expect minimum Qualification and SPIRIT (Commitment) For best output from the team, Team as a UNIT… To infuse Team spirit, it takes time, a long process, gradual process, For it, important to know the Process of Team Building                                                                     Process of Team Building 1.       Forming stage – ·          Earliest stage , >>>>> एक जिज्ञासा, उत्सुक्तता, सावधानी कि एक टीम बनने जा रही, टीम हा हिस्सा बनने जा रहे। ·          Give them a sense of Team identity ,, ·          Help them define their objective , ( 1) Team as well ( 2) individual , ·          As a Leader>>>>> Here praise for even smallest improvement counts, ·          If leader don’t work hard , it may prolong … ·            इसके बाद तुफानी दौर शुरु ....   2.       Storming stage – ·          As objective, pu