रविवार, 31 जनवरी 2021

Creative use of stress and emotions

 तनाव एवं भावनाओं का रचनात्मक प्रयोग

Stress  दैनिक जीवन में तनाव का आना स्वाभाविक है, यह जीवन का अंग है। जब व्यक्ति किसी चुनौतीपूर्ण परिस्थिति का सामना करता है तो फाईट या फ्लाइट (जुझो-लड़ो या भागो) की स्थिति में शरीर से ऐसे जैविक रसायन (Harmons) निकलते हैं, जो उसे इनका सामना करने के लिए तैयार करते हैं। व्यक्ति इनसे निपटने के लिए आवश्यक तत्परता, जुझारुपन और एकाग्रता से लैंस हो जाता है तथा इनके पार हो जाता है।

इस तरह तनाव जीवन का एक सहायक तत्व है, लेकिन जब यह तनाव किसी कारणवश लगातार लम्बे समय तक बना रहता है, तो यह तन-मन के लिए नुकसानदायक हो जाता है और यह व्यक्ति के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। ऐसे में व्यक्ति की मानसिक एकाग्रता, यादाशत एवं कार्य करने की क्षमता धीरे-धीरे प्रभावित होने लगती है। व्यक्ति सही ढंग से भोजन नही कर पाता, नींद डिस्टर्ब हो जाती है। प्रायः तनाव में व्यक्ति या तो भूखे रहता है या अधिक खाने की समस्या से ग्रसित हो जाता है। उसे छोटी-छोटी बातों पर खीज व गुस्सा आने लगता है, स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है। चुनौतियों से जूझने और सामना करने की क्षमता चूकने लगती है। व्यक्ति बहुत जल्द थक जाता है और हताश-निराश हो जाता है। 

और इसके बढ़ने पर व्यक्ति कई तरह के मनोविकारों, जैसे – चिंता, हताशा-निराशा, अवसाद, उद्गिनता, भय आदि से ग्रस्त हो जाता है। इनसे उबरने के चक्र में कई लोग तो शराब, नशे आदि के भी शिकार हो जाते हैं। शरीर व मन पर तनाव के पड़ने वाले दबाव समय के साथ कई तरह के मनोकायिक रोगों (Psychosomatic disorders) के रुप में प्रकट होने लगते हैं, जैसे – उच्च-रक्तचाप, हाईपरटेंशन, मोटापा, मधुमेह, ह्दयरोग, अस्थमा, सरदर्द आदि।

जीवन में तनाव के कई कारण हो सकते हैं। इनमें कई परिस्थितियाँ भी भारी तनाव का कारण बनती है, जैसे – किसी प्रिय का बिछुड़ना, मृत्यु, तलाक, रिटार्यमेंट, आर्थिक तंगी, गरीबी, बेरोजगारी, दीर्घकालीन बिमारी, पारिवारिक झगड़े, आपसी क्लह आदि। अचानक मिली कोई बड़ी उपलब्धि, धन-लाभ, लॉटरी, शादी, सफलता आदि भी परिस्थितिजन्य तनाव का कारण बनते हैं। ये तनाव समय के साथ स्वयं ही शांत होते जाते हैं। हालाँकि व्यक्ति अपनी सूझ, परिपक्वता एवं मनोबल के आधार पर इनसे बखूबी निपट लेता है व ये अधिक चिंता का कारण नहीं रहते।

परिस्थिति के अतिरिक्त अधिकाँश तनाव व्यक्ति की बिगड़ी जीवनचर्या, असंयमित आहार-विहार, नकारात्मक सोच एवं अवांछनीय व्यवहार के कारण पैदा होते हैं। नियमित आत्म-निरीक्षण के साथ जीवन में व्याप्त हो रहे ऐसे तनाव को इनके मूल में सक्रिय कारणों को खोजकर, रचनात्मक ढंग से निपटाया जा सकता है।

Steps for creative use of stress

·         तनाव के कारण खोजेंगे, तो अकसर पहले बाहर ही दिखने को मिलेंगे, इनके मूल को अपने अंदर (जीवन शैली, आहार-विहार, सोच, व्यवहार,) खोजने का प्रयास करें और फिर इनके उपचार का प्रय़ास करें।

·         अपनी जीवन शैली में आवश्यक सुधार करें। इसके लिए अपने आहार-विहार को अनुशासित करें। समय पर सोने-जागने का क्रम बनाएं। हर कार्य को प्राथमिकता के आधार पर निपटाएं।

   अपनी शारीरिक क्षमता के अनुरुप रोज कुछ व्यायाम करें। गहरी सांस लें, प्राणायाम का अभ्यास करें। अपनी हॉवी व शौक को भी रोज कुछ समय दें। 

·         अपने विचार शैली में सुधार का प्रयास करें। इसको सकारात्मक बनाएं। इसके लिए श्रेष्ठ पुस्तकों को पढ़ें, आध्यात्मिक महापुरुषों का सत्संग करें। और हमेशा मन को लक्ष्य केंद्रित या फोक्सड रखें तथा श्रेष्ठ विचारों से ओत-प्रोत रखने का प्रयास करें।

·         अपने व्यवहार को दुरुस्त करें। बढ़ों को सम्मान दें, छोटों को स्नेह प्यार दें। अपने सहपाठियों के साथ मिलजुल कर रहें। सबके साथ बिनम्रता, शालीनता पूर्वक व्यवहार करें। कोई कैसा भी व्यवहार करें, अपना व्यवहार एवं वाणी को न बिगड़ने दें, अपनी गरिमा बनाए रखें।

·         अपने स्वभाव को ठीक करने का प्रयास करें, जो कि सबसे कठिन कार्य होता है। इसके लिए आध्यात्मिक उपचारों की मदद लें। उपासना, ध्यान, प्रार्थना आदि को जीवन का अभिन्न अंग बनाएं। रोज इनके लिए कुछ समय निकालें, बल्कि हर पल इनसे ओत-प्रोत करने का अभ्यास करें।

·         यदि हम आध्यात्मिक जीवन दृष्टि एवं जीवन शैली को अपनाते हैं तो कठिन से कठिन तनावपूर्ण परिस्थिति का रचनात्मक उपयोग कर सकते हैं। महाभारत के रणक्षेत्र में अवसादग्रस्त अर्जुन इसी आधार पर भगवान श्रीकृष्ण के सान्निध्य में विषाद को योग में बदलते हैं।

·         नियमित रुप से गीता के कुछ सुत्रों का स्वाध्याय करे व इनका चिंतन-मनन करें और जीवन में धारण करने का प्रयास करें। कुलाधिपति महोदय की गीता-ध्यान कक्षाओं में इन सुत्रों की सरल एवं व्यवहारिक व्याख्याओं को समझा जा सकता है।

·         गलत लोगों के संग साथ से बचें। सही संगत न मिल पाने की स्थिति में बुरी संगत से अकेला भला (Better alone than bad company) एक आदर्श नीति हो सकती है। मोबाईल का संयमित एवं अनुशासित प्रयोग करें, क्योंकि इसका अधिक उपयोग तनाव का एक बड़ा कारण बनता है।

·         नियमित रुप से किया गया डायरी लेखन मन के तनाव को हल्का करने का रामवाण उपाय सावित हो सकता है, इसे अवश्य अपनाएं। प्रकृति की गोद में कुछ पल अवश्य बिताएं, आपका तनाव हल्का होगा।

·         एक समय में एक ही काम करें, इसके बाद ही दूसरे कार्य में हाथ लगाएं। एक साथ कई काम करने से बचें और छोटे-छोटे कदमों को बढ़ाते हुए बढ़ा लक्ष्य हासिल करें।

·         अति महत्वाकाँक्षा से बचें। अपने मौलिक लक्ष्य को पहचानें। अपनी क्षमता के अनुसार धीरे-धीरे आगे बढ़ें। दूसरों से अनावश्यक कंपेटिशन से बचें। ईर्ष्या-द्वेष, निंदा-चुग्ली आदि से दूर ही रहें।

 


Emotions, what it is? ईमोश्न व्यक्ति के ह्दय से जुड़े भाव हैं। ये बहुत कुछ हमारी मान्यताओं, धारणाओं एवं स्व के भाव पर निर्भर करते हैं। संक्षेप में ये हमारी भावनाओं से जुड़ी शक्ति हैं, जो जीवन की प्रेरक शक्ति का काम करते हैं, जिसके मूल में होता है व्यक्ति का स्व का भाव, सेल्फ-एस्टीम व अपने प्रति धारणा। यदि यह सकारात्मक है तो व्यक्ति का संतुलित भावनात्मक विकास होता है और व्यक्ति आत्म-विश्वास, आत्म-गौरव के भाव से भरा होता है और अदक ये नकारात्मक हैं तो व्यक्ति हीनता या दंभ आदि से पीडित पाया जाता है। 

How negative emotions disturb life? प्रायः बचपन में लालन-पालन में उचित भावनात्मक पौषण, परिवार का बिगड़ा माहौल आदि इसके विकास में प्रारम्भिक अबरोध बनते हैं। कुछ जन्मजात या आनुवांशिक कारणों (genetic) से भी इसका नकारात्मक विकास होता है। जिस कारण भावनात्मक शुष्कता, न्यूनता या विकृतियां, जीवन भर व्यक्ति को परेशान करती हैं। और व्यक्ति या तो हीनता-कुण्ठा-अपराध बोध से पीड़ित रहता है या फिर दर्प-दंभ-अहंकार आदि से ग्रसित पाया जाता है। ऐसे भावदशा में व्यक्ति की रचनात्मक शक्ति या क्रिएटिविटी कुंद पड़ जाती है। अतः क्रिएटिव एक्सलैंस के लिए इस अवस्था से उबरना आवश्यक हो जाता है।

जो भी हो, व्यक्ति जहाँ खड़ा है, वहीं से आगे बढ़ते हुए अपने भावनात्मक विकास को रचनात्मक दिशा दे सकता है।

Creative use of emotions, steps

सबसे पहले अपनी भावनात्मक अवस्था को समझें और इसे स्वीकार करें।

·       दूसरों से अधिक आशा अपेक्षा न रखें। जिसके प्रति जो कर्तव्य बनता है, उसे निष्ठा के साथ पूरा करें। 

·        किसी के प्रति अधिक लगाव या मोह न पालें। अपनी भावनाओं के तार व्यक्ति की अपेक्षा अपने आदर्श, ईष्ट या सद्गुरु से जोड़ें। व्यक्ति से भी अपने भावनात्मक सम्बन्ध को भी इसी प्रकाश में रखने का प्रयास करें।

·        किसी चीज को प्रतिष्ठा का प्रश्न न बनाएं। नम्र रहें। दूसरों की भी भावनात्मक स्थिति को समझें व उसी अनुरुप व्यवहार करें।

·        अत्यधित संवेदनशील या भावुक न बनें। जीवन को समग्रता में समझने की कोशिश करें, मजबूत बनें तथा संतुलित रहें।

  दूसरों की बात को पूरी तरह सुने-समझें, तभी जबाव या समाधान दें। 

   जरुरतमंदो की सहायता करें। रोज एक सेवा कार्य बिना किसी अपेक्षा या स्वार्थ के करें। निष्काम सेवा का यह प्रयोग चित्तशुद्धि का एक प्रयोग सावित होगा।

·   ·     संयम, सहिष्णुता, उदारता और सेवा-सहकार के व्यवहारिक सुत्रों का अभ्यास करें।

·        अपनी अंतर्वाणी को सुने व इसका अनुसरण करें।

    इसके साथ अपने भावों को गीत-संगीत, लेखन, चित्रकला या अन्य माध्यमों से प्रकट करें। इसमें आपके सकारात्मक भावों के साथ नकारात्मक भावों को भी रचनात्मक अभिव्यक्ति मिलेगी। डायरी लेखन इसमें बहुत सहायक सिद्ध होगा।

 

जीवन में सबसे अधिक तनाव, अवसाद और विषाद की स्थिति तब बनती है, जब व्यक्ति जन्मजात किसी शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक, भावनात्माक, आर्थिक या आध्यात्मिक न्यूनता, अशक्तता या अपंगता से ग्रस्त होता है। लेकिन व्यक्ति अपनी इच्छा शक्ति, कल्पना शक्ति, विचार शक्ति एवं भावनात्मक शक्ति का रचनात्मक उपयोग करते हुए इन न्यूनताओं पर विजय पा सकता है और आगे बढ़ सकता है। यहाँ तक कि अपने चुने हुए क्षेत्र में शिखर तक पहुँच सकता है।

ऐसे ही संकल्प शक्ति के धनी और अपने क्षेत्र में क्रिएटिव एक्सलेंस के शिखर को छूने वाले लोगों के उदाहरणों को आप पढ़ सकते हैं, आगे दिए लिंक में मानवीय इच्छा शक्ति के कालजयी प्रेरक प्रसंग

जरा सोचें (Just Think & Ponder!!)

·         आपके जीवन में तनाव, अवसाद या विषाद की स्थिति बनने पर आपकी क्या प्रतिक्रिया रहती है?

·         आप इनके लिए कितना दूसरों को या परिस्थिति को दोषी मानते हैं तथा कितना इनकी जिम्मेदारी स्वयं पर लेते हैं?

·         उन परिस्थितियों को याद करें, जब आपने इन कठिन एवं विकट पलों का रचनात्मक प्रयोग किया हो? जबकि आप चाहते तो इसमें ध्वंसात्मक भी हो सकते थे।

·         आपकी जन्मजात या परिस्थितिजन्य न्यूनता, कमी, दुर्बलता या अपंगता क्या है, जिसे आप अपनी शक्ति बनाने के रचनात्मक प्रयास में लगे हैं?

·         क्या आपने अपने जीवन में कभी विषाद को योग में बदलते देखा है या प्रयास किया है? दुःख के पलों में स्वयं को समझने का प्रयास किया है?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें